Breaking

छत्तीसगढ़ की जनजातियों का सामान्य परिचय

छत्तीसगढ़ की जनजातियों का सामान्य परिचय 



  • जनजातियों का नाम मध्यप्रदेश राज्य पुनर्गठन अधिनियम 2000 के तहत मिला।
  • छत्तीसगढ़ में ४२ प्रकार की जनजातियां पाई जाती है।
  • जनजाति संबधित प्रावधान अनुच्छेद 342 में है।
  • छत्तीसगढ़ में विशेष पिछड़ी जनजातियों की संख्या 7 है। जिसमे से 5 केंद्र सरकार द्वारा तथा 2 राज्य सरकार द्वारा घोषित है
  • भारतीय संविधान के अनुसूची -5 के तहत राष्ट्रपति छत्तीसगढ़ की 5 जनजाति को विशेष पिछड़ी जनजाति में शामिल किये हैं।  
    1. अबूझमाड़िया,
    2.  कमार, 
    3. पहाड़ी कोरबा, 
    4. बिरहोर एवं 
    5. बैगा 

No comments:

Powered by Blogger.