Breaking News

गोंड जनजाति से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

गोंड जनजाति से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य




  • मुख्य सम्पर्क बोल :  गोंडी
  • सबसे बडी जनजाति : गोंड़
  • गोंड़ को उत्पत्ति : कोंड शब्द से
  • गोंड़ जाति किस मूल के हैं : द्रविडियन
  • इनका मोटे अनाज से बना पेय : पेज
  • मुख्य गहना :  पीतल, मोती, मूंगा आदि के आभूषण
  • अमर श्रृंगारिक गहना :  गोदना
  • गोंडों के ममेरे-फुफेरे भाई बहनों जो विवाह को कहते हैं : दूध लौटावा

  • प्रमुख विवाह : विधवा, वधु मूल्य , चढ़ एवम पठउनी विवाह प्रचलित है।
  • आजीविका के साधन : कृषि , वनोपज संग्रह, पशुपालन, मुर्गीपालन, एवं मजदूरी
  • प्रमुख देवता : बूढादेव , सुरजदेव, नारायणदेव, एवं बस्तर अंचल में दन्तेश्वरी देवी की पूजा
  • प्रमुख त्यौहार : करमा, नवाखाई, बिदरी, बकपंथी, ज़वारा, मड़ई, हरदिली एवं घेरता आदि
  • प्रमुख नृत्य : सैला, करमा, बिरहा, भडोनी, कहरवा, सुआ, गेडी, अजनी आदि
  • घरों की दीवारों का अलंकरण : नोहडोरा
  • निवासी जिले : सम्पूर्ण राज्य

  • गोंडों की देवगढ शाखा ने चांदा  सहित विदर्भ क्षेत्र में शासन किया : 1250 से 1751 ईं तक
  • अंतिम गोड राजा जिसे मराठों ने हराकर कैद जिया :  नरहरशाह
  • गोडों के उपजाति :  02 (राजगोंड एवं खटोलिया)
  • गोडी भाषा का व्याकरण छपा : 1890 में
  • महत्वपूर्ण वृक्ष : महुआ
















No comments