Breaking

शशि शंकर ओएनजीसी के नए चेयरमैन नियुक्‍त, जानिए ONGC के बारे मे

शशि शंकर ओएनजीसी के नए चेयरमैन नियुक्‍त


केन्द्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने शशि शंकर को देश की सबसे बड़ी तेल एवं गैस उत्पादक कंपनी ओएनजीसी का चेयरमैन और प्रबंध निदेशक नियुक्त किया है. वह मार्च 2021 तक इस पद पर बने रहेंगे.
बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली एसीसी ने शशि शंकर को उनके सेवानिवृत्ति या अगला आदेश जारी होने में से जो भी पहले हो तब तक के लिए ओएनजीसी के सीएमडी का पद सौंपा है. सामान्य तौर पर पांच साल के लिए नियुक्ति की सिफारिश की जाती थी.
शशि शंकर के बारे में- 
शशि शंकर वर्तमान में ओएनजीसी में निदेशक (तकनीक और फील्ड सेवा) हैं. 56 वर्षीय शशि शंकर की नियुक्ति उनके सेवानिवृत्ति तक के लिए की गई है. शशि शंकर 1 अक्‍टूबर 2017 को कार्यभार ग्रहण करेंगे. शशि शंकर का कार्यकाल 31 मार्च 2021 तक होगा. ओएनजीसी के निवर्तमान चेयरमैन और प्रबंध निदेशक दिनेश सर्राफ 30 सितंबर 2017 को सेवानिवृत्त हो रहे हैं.

ओएनजीसी (ONGC)

  • सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे अधिक लाभ अर्जित करने वाली कंपनी ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (ओएनजीसी) 23 जून 1993 से प्रारंभ हुई.
  • यह भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनी है. ओएनजीसी कच्चे तेल के अन्वेषण और उत्पादन गतिविधियों में संलिप्त है.
  • फॉर्च्यून ग्लोबल 500 की सूची में इसे 335 वें स्थान पर रखा गया.
  • ओएनजीसी भारत मे कच्चे तेल के कुल उत्पादन मे 77% और गैस के उत्पादन मे 81% का योगदान करती है.
  • इसे 14 अगस्त 1956 को एक आयोग के रूप में स्थापित किया गया. इस कंपनी में भारत सरकार की कुल इक्विटी हिस्सेदारी 74.14% है.
  • ओएनजीसी की हाइड्रोकार्बन के अन्वेषण और उत्पादन गतिविधिया भारत के 26 तलछटी बेसिनों में चल रही हैं.
  • ओएनजीसी भारत के कच्चे तेल की कुल आवश्यकता का लगभग 30% उत्पादन करती है. मार्च 2007 तक यह मार्केट कैप के संदर्भ में यह भारत की सबसे बड़ी कंपनी थी.


No comments:

Powered by Blogger.